TimesSpeak.com

Welcome To The World Of News Articles

Business Latest News

अगर आपका बैंक अकाउंट है स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया में तो जरूर पढ़े।

अगर आपका बैंक अकाउंट है स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया में तो जरूर पढ़े।

देश की सबसे बड़ी बैंक भारतीय स्टेट बैंक ने नए वर्ष का तोहफा देते हुए एक साथ बेस रेट और प्रमुख उधारी दर में 30-30 आधार अंकों यानी 0.30 फीसदी की कटौती कर दी है।
अब बेस रेट 0.95 से घटकर 8.65 फीसदी, जबकि बीपीएलआर दर 13.70 से घटकर 13.40 फीसदी रह गयी है।
इससे बैंक के पुराने करीब 8000000 ग्राहकों को फायदा होगा क्योंकि अब उनकी होम लोन या अन्य कर्जों की मासिक किस्त कम हो जाएगी मालूम हो नवंबर 2017 में त्योहारी सीजन के दौरान ही सीबीआई ने अपने ऑटो लोन और होम लोन को सबसे सस्ता कर दिया था। अब उस की दर आईसीआईसीआई बैंक और एचडीएफसी बैंक जैसी बैंकों की दरों से काफी नीचे आ गई है बैंक में एमसीएलआर लागत आधारित कर की दर में कोई बदलाव नहीं किया है। एमसीएलआर की व्यवस्था अप्रैल 2016 से लागू की गई है जिसके आधार पर बैंक उत्पादों की ब्याज दरें तय करता है, एक बर्ष के लिए एमसीएलआर की दर 7.95 प्रतिशत है। बैंक ने वगैर प्रोसेसिंग फीस होम लोन स्कीम को आगे 31 मार्च 2018 तक जारी रखने की घोषणा की है।

दो हजार तक के ट्रांजेक्शन पर चार्ज नहीं
डेबिट कार्ड भीम ऐप और दूसरे डिजिटल माध्यमों से ₹2000 तक का भुगतान करने पर नए साल से कोई चार्ज नहीं लगेगा पिछले महीने केंद्रीय मंत्रिमंडल ने यह चार्ज खुद उठाने के प्रस्ताव को मंजूरी दी। मर्चेंट डिस्काउंट रेट इंडिया के रुप में यह चार्ज बैंक विक्रेताओं से वसूलते हैं। वित्तीय सेवा सचिव राजीव कुमार ने एक ट्वीट में कहा Happy डिजिटल 2018 । दिसंबर में समाप्त हुई तिमाही में डिजिटल ट्रांजैक्शन चार्ज भी 86 फीसदी बढ़कर 14.56 करोड़ हो गए, कुल 13174 करोड़ो रूपए का लेनदेन हुआ। उन्होंने कहा कि आम लोग डिजिटल ट्रांजैक्शन को अपनाएं और अर्थव्यवस्था में पारदर्शिता लाने के लिए योगदान करें। इससे सरकारी खजाने पर 2512 करोड़ों रुपए का भाव बढ़ेगा

ऑनलाइन उत्पादों पर अब पूरा विवरण
ई-कॉमर्स वेबसाइट पर बिकने वाली वस्तुओं पर उपभोक्ताओं को एमआरपी के साथ एक्सपायरी डेट जैसी जानकारियां भी मिलेगी इस संबंध में नियम सोमवार से लागू हो गया है। जून 2017 में उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय ने नियमों में संशोधन किया था, तब कंपनियों को 6 महीने का समय दिया गया था। अभी ऑनलाइन बिकने वाले उत्पादों पर केवल MRP लिखी होती है नए नियमों के बाद वेबसाइट पर थोक विक्रेताओं को निर्माण तारीख, एक्सपायरी तारीख, मात्रा, निर्माता देश, व कस्टमर केअर की जानकारी भी देनी होगी नए नियमों अक्षरों व अंकों का आकार भी बढ़ा दिया गया है।

1 COMMENTS

LEAVE A RESPONSE

Your email address will not be published.