TimesSpeak.com

Welcome To The World Of News Articles

Times speak
Education India Latest News Politics World

भारत और यू ए ई का दौरे का हाल जाने यहाँ

भारत और यू ए ई का दौरे का हाल जाने यहाँ

भारत और यू ए ई

Times speak
Source

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी फलस्तीन की अपनी पहली यात्रा पूरी करने के बाद 10 फरवरी 2018 को संयुक्त अरब अमीरात पहुंचे हैं। यूएई यात्रा के पहले दिन दोनों देशों के बीच पांच समझौतों पर हस्ताक्षर हुए।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जब संयुक्त अरब अमीरात पहुंचे तो पीएम का स्वागत यूएई के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन ज़ायद एल नाहयान ने किया। मोहम्मद बिन जायद एल नहयान और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बीच प्रतिनिधि स्तर की वार्ता हुई।

दोनों नेताओं ने आपसी संबंधों के विभिन्न मु्ददों पर चर्चा की जिसके बाद भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अबू धाबी के क्राउन प्रिंस शेख मोहम्मद बिन जाएद अल नाहयान की मौजूदगी में भारत और संयुक्त अरब अमीरात की सरकारों के बीच 5 समझौतों पर हस्ताक्षर हुए। दोनों देशों के बीच ऊर्जा क्षेत्र, रेलवे, भारतीय श्रमिकों और वित्त क्षेत्र में समझौते हुए।

समझौते

● ओएनजीसी ग्रुप और आबू धाबी की राष्ट्रीय तेल कंपनी के बीच समझौता। कच्चे तेल के खनन के क्षेत्र में किसी भारतीय कंपनी के साथ ये पहला निवेश समझौता है।

● भारतीय श्रमजीवियों को सशक्त करने के लिए समझौता।

● बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज और अबू धाबी सिक्योरिटी एक्सचेंज के बीच समझौता।

● रेलवे और परिवहन क्षेत्र में समझौता।

● जम्मू-कश्मीर सरकार और डीपी वर्ल्ड के बीच एक समझौता।

प्रधानमंत्री मोदी की इस यात्रा के दौरान संयुक्त अरब अमीरात के शहर अबू धाबी में मंदिर की आधारशिला रखने का कार्यक्रम भी संपन्न हुआ। मंदिर निर्माण समिति से जुड़े सदस्यों ने दोनों नेताओं को कलश भेंट किया।

यू ए ई

Times speak
Source

संयुक्त अरब अमीरात मध्यपूर्व एशिया में स्थित एक देश है। सन 1873 से 1947 तक यह ब्रिटिश भारत के अधीन रहा। उसके बाद इसका शासन लंदन के विदेश विभाग से संचालित होने लगा। 1971 में फारस की खाड़ी के सात शेख राज्यों आबू धाबी, शारजाह, दुबई, उम्म अल कुवैन, अजमान, फुजइराह तथा रस अल खैमा को मिलाकर स्वतंत्र संयुक्त अरब अमीरात की स्थापना हुई। इसमें रास अल खैमा 1972 में शामिल हुआ।

Times speak
Source

19वीं सदी में संयुक्त राजशाही और अनेक अरब शेखों के बीच हुई संधि की वजह से 1971 से पहले संयुक्त अरब अमीरात को युद्धविराम संधि राज्य के नाम से जाना जाता था। इसके अलावा क्षेत्र के अमीरात की वजह से 18वीं शताब्दी से लेकर 20वीं शताब्दी के शुरुआत तक इसे पायरेट कोस्ट के नाम से भी जाना जाता था। 1971 के संविधान के आधार पर संयुक्त अरब अमीरात की राजनैतिक व्यवस्था आपस में जुड़े कई प्रबंधकीय निकायों से मिलकर बनी है। इस्लाम देश का राष्ट्रीय धर्म और अरबी राष्ट्रीय भाषा है। तेल भंडार के मामले में दुनिया का छठवां सबसे बड़ा देश संयुक्त अरब अमीरात की अर्थव्यवस्था मध्यपूर्व में सबसे विकसित है।

उम्मीद है आपको हमारी पोस्ट पसंद आई होगी। अगर आपको हमारी पोस्ट पसंद आई तो कमेंट करें और अपने दोस्तों से शेयर करें।

LEAVE A RESPONSE

Your email address will not be published.