TimesSpeak.com

Welcome To The World Of News Articles

Times speak
Bollywood India

श्रीदेवी का शव तिरंगे में क्यों लपेटा गया

श्रीदेवी का शव तिरंगे में क्यों लपेटा गया

Times speak
Source

साल 1997 में 28 फ़रवरी को श्रीदेवी की फ़िल्म जुदाई रिलीज़ हुई थी और साल 2018 में इसी दिन वो इस दुनिया से अंतिम जुदाई ले गईं।
24 फ़रवरी की रात दुबई के एक होटल में अंतिम सांस लेने वालीं श्रीदेवी मंगलवार अपने देश लौटीं।
मंगलवार रात अँधेरी के लोखंडवाला स्थित ‘ग्रीन एकर्स’ में श्रीदेवी का पार्थिव शरीर पहुंचा था और बुधवार सवेरे उनका आख़िरी सफ़र शुरू हुआ।
घर से श्मशान भूमि का फ़ासला 5 किलोमीटर से ज़्यादा था और रास्ते भर पुलिस दल और SRPF के जवान तैनात थे।

इस वजह से श्रीदेवी का शव तिरंगा में क्यों लपेटा गया

Times speak
Source

इस दौरान जिस एक बात ने कई लोगों का ध्यान खींचा, वो थी तिरंगे में लिपटी श्रीदेवी से जुड़ी हुई। वो इसलिए क्योंकि उन्हें राजकीय सम्मान दिया गया था।
राजकीय सम्मान का मतलब है कि इसका सारा इंतज़ाम राज्य सरकार की तरफ़ से किया गया था, जिसमें पुलिस बंदोबस्त पूरा था। शव को तिरंगे में लपेटने के अलावा उन्हें बंदूकों से सलामी भी दी गई।
आम तौर पर राजकीय सम्मान बड़े नेताओं को दिया जाता है, जिनमें प्रधानमंत्री, मंत्री और दूसरे संवैधानिक पदों पर बैठे लोग शामिल होते हैं।

Times speak
Source

जिस व्यक्ति को राजकीय सम्मान देने का फ़ैसला किया जाता है उनके अंतिम सफ़र का इंतज़ाम राज्य या केंद्र सरकार की तरफ़ से किया जाता है। शव को तिरंगे में लपेटा जाता है और गन सैल्यूट भी दिया जाता है।

राजकीय सम्मान किसको दिया जाता है

Times speak
Source

पहले ये सम्मान चुनिंदा लोगों को ही दिया जाता था लेकिन अब ऐसा नहीं रह गया है। अब स्टेट फ़्यूनरल या राजकीय सम्मान इस बात पर निर्भर करता है कि जाने वाला व्यक्ति क्या ओहदा या क़द रखता है।
पूर्व कानून और संसदीय मामलों के मंत्री एम सी ननाइयाह ने रेडिफ़ से कहा था, ”अब ये राज्य सरकार के विवेक पर निर्भर करता है। वो इस बात का फ़ैसला करती है कि व्यक्ति विशेष का क़द क्या है और इसी हिसाब से तय किया जाता है कि राजकीय सम्मान दिया जाना है या नहीं। अब ऐसे कोई तय दिशा-निर्देश नहीं हैं।”
सरकार राजनीति, साहित्य, कानून, विज्ञान और सिनेमा जैसे क्षेत्रों में अहम किरदार अदा करने वाले लोगों के जाने पर उन्हें राजकीय सम्मान देती है।

राजकीय सम्मान किस किसको मिला है

इसके अलावा मदर टेरेसा को भी राजकीय सम्मान दिया गया था। वो राजनीति से ताल्लुक़ नहीं रखती थीं लेकिन समाज सेवा में अहम योगदान देने के लिए उन्हें ये सम्मान दिया गया।
इसके अलावा लाखों अनुयायियों वाले सत्य साईं बाबा अप्रैल, 2011 में जब दुनिया छोड़ गए थे तो राज्य सरकार ने उन्हें भी राजकीय सम्मान दिया गया था।

प्रधानमंत्री पद पर रहते हुए जवाहरलाल नेहरू, लाल बहादुर शास्त्री, इंदिरा गांधी को राजकीय सम्मान मिला था इसके आलावा पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी, मोरारजी देसाई, चंद्र शेखर सिंह
और पूर्व मुख्यमंत्री ज्योति बसु, ई के मालॉन्ग

शशि कपूर को भी मिला था राजकीय सम्मान

Times speak
Source

पिछले साल दिसंबर में शशि कपूर का निधन हुआ था और उन्हें भी राजकीय सम्मान के साथ विदाई दी गई थी।

हालांकि, राजेश खन्ना, विनोद खन्ना और शम्मी कपूर जैसे दिग्गज कलाकारों को राजकीय सम्मान नहीं दिया गया था।

उम्मीद है आपको हमारी जानकारी पसंद आई होगी। अगर आपको हमारी जानकारी पसंद आई तो अपने दोस्तों से शेयर जरूर करें

LEAVE A RESPONSE

Your email address will not be published.