TimesSpeak.com

Welcome To The World Of News Articles

Times speak
Education India Latest News Politics World

भारत और ओमान के दौरे का हाल जाने यहाँ

भारत और ओमान के दौरे का हाल जाने यहाँ

Times speak
Source

भारत और ओमान

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पश्चिम एशिया के तीन देशों के दौरे के आखिरी पड़ाव में 11 फरवरी 2018 को ओमान की दो दिवसीय यात्रा पर पहुंचे। इस दौरान दोनों देशों के बीच विभिन्न क्षेत्रों में 8 समझौतों पर हस्ताक्षर किये गए।

पीएम मोदी ने ओमान के मस्कट में सुल्तान कबूस और अन्य प्रमुख नेताओं से मुलाकात की। मस्कट में प्रधानमंत्री ने भारतीय समुदाय के लोगों को संबोधित किया और भारत के विकास और न्यू इंडिया के विजन को लोगों से साझा किया।

Times speak
Source

भारत और ओमान के साथ उच्च-स्तरीय वार्ता के साथ दोनों पक्षों के बीच रक्षा, स्वास्थ्य और पर्यटन के क्षेत्र में सहयोग के लिए 8 समझौतों पर हस्ताक्षर हुए।

समझौते

● राजनीतिक और व्यवसायिक मामलों में कानूनी और न्यायिक सहयोग पर समझौता।

● दोनों देशों के बीच राजनयिक, विशेष, सेवा और अधिकारिक पासपोर्ट धारकों के लिए परस्पर वीजा छूट पर समझौता।

● स्वास्थ्य के क्षेत्र में सहयोग के लिए समझौता ज्ञापन।

● बाहरी क्षेत्रों के शांतिपूर्व उपयोग में सहयोग के लिए समझौता।

● विदेश सेवा संस्थान, विदेश मंत्रालय, भारत और ओमान के राजनयिक संस्थान के बीच सहयोग के लिए समझौता।

● नेशनल डिफेंस कॉलेज (राष्ट्रीय रक्षा कॉलेज), ओमान सल्तनत और डिफेंस स्टडीज और एनालाइज के बीच अकादमिक और छात्रों के अनुरूप सहयोग के लिए समझौता।

● भारत और ओमान के बीच पर्यटन के क्षेत्र में सहयोग के लिए समझौते।

● सैन्य सहयोग के लिए समझौते के लिेए अनुबंध।

ओमान

Times speak
Source

ओमान अरबी प्रायद्वीप के पूर्व-दक्षिण में स्थित एक देश है जिसे आधिकारिक रूप से सल्तनत उमान नाम से जानते हैं। यह सउदी अरब के पूर्व और दक्षिण की दिशा में अरब सागर की सीमा से लगा है। संयुक्त अरब अमीरात इसके उत्तर में स्थित है।

ओमान की कुल जनसंख्या 25 लाख के आसपास है और यहाँ बाहर से आकर रहने वालों (आप्रवासियों) की संख्या काफ़ी है। लगभग पूरी जनसंख्या मुस्लिम है जिसमें इबादियों की संख्या सबसे अधिक है। इसके अमेरिका और ब्रिटेन के साथ गहरे कूटनीतिक संबंध हैं।

ओमान का इतिहास

सुमेरी सभ्यता के एक लेख के अनुसार इसे मगन नाम से जाना जाता था। ओमान नाम एर अरबी जाति पर पड़ा जो यमन के उमान क्षेत्र से आए थे। ईसापूर्व छठी सदी से लेकर सातवीं सदी के मध्य तक यहाँ ईरान (फ़ारस) के तीन वंशों का शासन रहा – हख़ामनी, पार्थियन और सासानी। सातवीं सदी में मुहम्मद साहब के जीवनकाल में ही ओमान में इस्लाम का आगमन हो गया था। सन् 1508-1648 तक यहाँ पर पुर्तगालियों के उपनिवेश थे जो वास्को दा गामा द्वारा भारत की खोज किये जाने के बाद समुद्री रास्तों पर नियंत्रण के लिए बनाए गए थे। पुर्तगाल पर स्पेन के अधिकार हो जाने के बाद पुर्तगालियों को वापस जाना पड़ा। इसके बाद ओमानियों ने पूर्वी अफ़्रीकी तटीय प्रदेशों से भी पुर्तगालियों को मार भगाया।

ओमान की खाड़ी

ओमान की खाड़ी जिसे अरबी में ख़लीज उमान (خليج عُمان) और फ़ारसी में ख़लीज-ए-मकरान (خليج مکران) कहते हैं, अरब सागरऔर होरमुज़ जलसन्धि के बीच स्थित एक जलडमरू है। यह होरमुज़ जलसन्धि के पार फ़ारस की खाड़ी से जुड़ता है। हालांकि इसे खाड़ी बुलाया जाता है, भौगोलिक रूप से यह वास्तव में एक जलडमरू है। इसके उत्तर में ईरान और पाकिस्तान का मकरान क्षेत्र है जबकि इसके दक्षिण में संयुक्त अरब अमीरात और ओमान स्थित हैं। फ़ारस की खाड़ी की तुलना में इसकी गहराई काफी अधिक है।

उम्मीद है आपको हमारी पोस्ट पसंद आई होगी। अगर आपको हमारी पोस्ट पसंद आई तो कमेंट करें और अपने दोस्तों से शेयर करें।

LEAVE A RESPONSE

Your email address will not be published.