TimesSpeak.com

Welcome To The World Of News Articles

Gajab Facts Health

पानी तो हम सभी पीते हैं पर इन तरीकों से पानी पीने से वह अमृत बन जाता है जाने वो तरीके

पानी तो हम सभी पीते हैं, पर इन तरीकों से पानी पीने से वह अमृत बन जाता है जाने वो तरीके

आप लोगों ने कभी कहानियों में और कभी-कभी हमारे पूर्वजों से भी सुना हुआ कि पानी अमृत के समान है। तो ऐसे ही नहीं कहा जाता। हम आपको बताने वाले हैं कुछ ऐसे तरीके जिससे आपको पानी सचमुच अमृत की तरह ही लगेगा।

पानी हमारे स्वास्थ्य के लिए बेहद जरूरी तत्व है हमारा शरीर 70% तक पानी से भरा हुआ है इसलिए हमें खुद को हाइड्रेटेड रखने के लिए पर्याप्त मात्रा पानी पीना चाहिए पानी हमारे स्वास्थ्य के लिए आधार है।
कहा जाता है कि हर दिन एक औसत इंसान को कम से कम 8 गिलास पानी पीना चाहिए क्योंकि पानी हमारे शरीर के तरलता के स्तर को मेंटेन रखता है पानी हमारी पाचन क्षमता को बढ़ाता है। और पोषण को पहुंचाने और शरीर के तापमान को स्थिर रखने में भी यह मदद करता है।

आयुर्वेद के अनुसार पानी अमृत है, लेकिन साथ ही आयुर्वेद हमें यह भी बताता है कि पानी किस-किस तरह से पीना चाहिए ताकि वह हमें अधिक से अधिक लाभ पहुंचाएं।

गटकें नहीं, पिए
पानी जल्दी जल्दी ना पिया जाए, बड़े बड़े घूँट लेने की वजह पानी को आराम से स्वाद लेकर धीरे धीरे सिप करें।

पानी की मांग को समझें
पानी की प्यास और पानी की जरूरत दो अलग-अलग चीजें हैं। प्यास आप को तब महसूस होती है जब आप अपने शरीर में पानी की जरूरत के सारे संकेतों को नजरअंदाज कर लिया है।
इसलिए पानी पीने के लिए प्यास महसूस होने का इंतजार ना करें शरीर को पानी की जरूरत को शरीर के संकेतों से समझें।
सबसे बड़ा संकेत है कि मूत्र का पीलापन और दूसरा होंठ का सूखना जब मूत्र का रंग गहरा पीला हो तो जान लें कि आपका शरीर पानी मांग रहा है तब पानी पीलें।

बैठकर पियें
हम यह गलती अक्सर करते हैं कि पानी बहुत लापरवाही से पीते हैं बहुत जल्दी में चलते-फिरते, जबकि आयुर्वेद कहता है कि पानी को बैठकर, हो सके तो जमीन पर बैठकर, धीरे धीरे सब्र से पीना चाहिए।
जल्दी में पिया गया पानी आपके शरीर में तरलता का संतुलन बिगाड़ सकता है, बैठ कर पानी पीने से आपका नर्वस सिस्टम व मसल्स रिलैक्स्ड होते हैं और शरीर की पाचन क्रिया में मदद मिलती है।

LEAVE A RESPONSE

Your email address will not be published.