TimesSpeak.com

Welcome To The World Of News Articles

Times speak
Gajab Facts Latest News Politics World

पाकिस्तान के इमरान खान ने 5 बच्चों की माँ से की तीसरी शादी

पाकिस्तान के इमरान खान ने 5 बच्चों की माँ से की तीसरी शादी

Times speak
Source

पाकिस्तान के पूर्व क्रिकेटर और तहरीक-ए-इंसाफ पार्टी के चीफ इमरान खान ने तीसरी शादी कर ली है। इमरान की नई दुल्हन का नाम बुशरा मनेका है। वो इमरान की आध्यात्मिक और योग गुरु भी हैं। तहरीक-ए-इंसाफ पार्टी ने इमरान खान और बुशरा मानेका के शादी की पुष्टि की है।

इमरान खान और बुशरा मनेका की शादी रविवार को लाहौर में एक सादे समारोह में हुई। शादी में दोनों के परिवारवालों के अलावा कुछ करीबी रिश्तेदार और दोस्त ही शामिल हुए। बता दें कि बुशरा मनेका को पाकपट्टन में एक सम्मानित पीर का दर्जा हासिल है।

कौन हैं इमरान खान?

Times speak
Source

इमरान ख़ान नियाजी का जन्म 25 नवम्बर 1952 को हुआ था। इमरान खान एक सेवानिवृत्त पाकिस्तानी क्रिकेटर हैं, जिन्होंने बीसवीं सदी के उत्तरार्द्ध के दो दशकों में अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट खेला और 1990 के दशक के मध्य से राजनीतिज्ञ हो गए। वर्तमान में, अपनी राजनीतिक सक्रियता के अलावा, ख़ान एक धर्मार्थ कार्यकर्ता और क्रिकेट कमेंटेटर भी हैं।

क्रिकेट कैररयर

इमरान ख़ान, 1971-1992 तक पाकिस्तानी क्रिकेट टीम के लिए खेले और 1982 से 1992 के बीच, आंतरायिक कप्तान रहे। 1987 के विश्व कप के अंत में, क्रिकेट से संन्यास लेने के बाद, उन्हें टीम में शामिल करने के लिए 1988 में दुबारा बुलाया गया। 39 वर्ष की आयु में इमरान ख़ान ने पाकिस्तान की प्रथम और एकमात्र विश्व कप जीत में अपनी टीम का नेतृत्व किया। उन्होंने टेस्ट क्रिकेट में 3,807 रन और 362 विकेट का रिकॉर्ड बनाया है, जो उन्हें ‘आल राउंडर्स ट्रिपल’ हासिल करने वाले छह विश्व क्रिकेटरों की श्रेणी में शामिल करता है।

राजनीतिक सफ़र

अप्रैल 1996 में इमरान ख़ान ने पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (न्याय के लिए आंदोलन) नाम की एक छोटी और सीमांत राजनैतिक पार्टी की स्थापना की और उसके अध्यक्ष बने और जिसके वे संसद के लिए निर्वाचित केवल एकमात्र सदस्य हैं। उन्होंने नवंबर 2002 से अक्टूबर 2007 तक नेशनल असेंबली के सदस्य के रूप में मियांवाली का प्रतिनिधित्व किया। इमरान ख़ान ने दुनिया भर से चंदा इकट्ठा कर, 1996 में शौकत ख़ानम मेमोरियल कैंसर अस्पताल और अनुसंधान केंद्र और 2008 में मियांवाली नमल कॉलेज की स्थापना में मदद की।

समाज सेवा

1992 में क्रिकेट से संन्यास लेने के बाद, चार से अधिक वर्षों तक, ख़ान ने अपने प्रयासों को केवल सामाजिक कार्य पर केंद्रित किया। 1991 तक, वे अपनी मां, श्रीमती शौकत ख़ानम के नाम पर गठित एक धर्मार्थ संगठन, शौकत ख़ानम मेमोरियल ट्रस्ट की स्थापना कर चुके थे। ट्रस्ट के प्रथम प्रयास के रूप में, ख़ान ने पाकिस्तान के पहले और एकमात्र कैंसर अस्पताल की स्थापना की, जिसका निर्माण ख़ान द्वारा दुनिया भर से जुटाए गए $25 मीलियन से अधिक के दान और फंड के प्रयोग से किया गया। उन्होंने अपनी मां की स्मृति से प्रेरित होकर, जिनकी मृत्यु कैंसर से हुई थी, 29 दिसम्बर 1994 को लाहौर में शौकत ख़ानम मेमोरियल कैंसर अस्पताल और अनुसंधान केंद्र, 75 प्रतिशत मुफ्त देखभाल वाला एक धर्मार्थ कैंसर अस्पताल खोला। सम्प्रति ख़ान अस्पताल के अध्यक्ष के रूप में कार्य करते हैं और धर्मार्थ और सार्वजनिक दान के माध्यम से धन जुटाते रहते हैं।1990 के दशक के दौरान, ख़ान ने UNICEF के लिए, खेलों के विशेष प्रतिनिधि के रूप में कार्य किया और बांग्लादेश, पाकिस्तान, श्रीलंका और थाईलैंड में स्वास्थ्य और टीकाकरण कार्यक्रम को बढ़ावा दिया।

27 अप्रैल 2008 को, ख़ान के दिमाग की उपज, नमल कॉलेज नामक एक तकनीकी महाविद्यालय मियांवाली जिले में उद्घाटित किया गया। नमल कॉलेज, मियांवाली विकास ट्रस्ट (MDT) द्वारा बनाया गया था, जिसके अध्यक्ष ख़ान थे और दिसम्बर 2005 में इसे ब्रैडफ़ोर्ड विश्वविद्यालय का एक सहयोगी कॉलेज बना दिया गया। इस समय, ख़ान अपनी सफल लाहौर संस्था को एक मॉडल के रूप में प्रयोग करते हुए कराची में एक और कैंसर अस्पताल का निर्माण करवा रहे हैं। लंदन में प्रवास के दौरान वे एक क्रिकेट धर्मार्थ संस्था, लॉर्ड्स टेवरनर्स के साथ काम करते हैं।

वैवाहिक जीवन

Times speak
Source

16 मई, 1995 को, इमरान ख़ान ने अंग्रेज़ उच्च-वर्गीय, रईस जेमिमा गोल्डस्मिथ के साथ विवाह किया, जिसने पेरिस में दो मिनट के इस्लामी समारोह में अपना धर्म परिवर्तन किया। एक महीने बाद, 21 जून को, उन्होंने फिर से इंग्लैंड में रिचमंड रजिस्टर कार्यालय में एक नागरिक समारोह में शादी की, उसके तुरंत बाद गोल्डस्मिथ के सरी में स्थित घर पर स्वागत समारोह का आयोजन किया गया। इस शादी से, जिसे ख़ान ने “कठिन” परिभाषित किया, सुलेमान ईसा (18 नवम्बर 1996 को जन्म) और कासिम (10 अप्रैल, 1999को जन्म), दो पुत्र हुए। अपनी शादी के समझौते के अनुसार, इमरान ख़ान वर्ष के चार महीने इंग्लैंड में व्यतीत करते थे। 22 जून, 2004 को यह घोषणा की गई कि ख़ान दंपत्ति ने तलाक़ ले लिया है, क्योंकि “जेमिमा के लिए पाकिस्तानी जीवन को अपनाना मुश्किल था।”

इमरान खान और बुशरा मनेका की शादी रविवार को लाहौर में एक सादे समारोह में हुई. शादी में दोनों के परिवारवालों के अलावा कुछ करीबी रिश्तेदार और दोस्त ही शामिल हुए। बता दें कि बुशरा मनेका को पाकपट्टन में एक सम्मानित पीर का दर्जा हासिल है।

कौन हैं बुशरा मनेका?

Times speak
Source

पाक क्रिकेट टीम के पूर्व कैप्टन इमरान खान की तीसरी बेगम आध्यात्मिक गुरु हैं। 40 साल की बुशरा वट्टू कबीले से आती हैं। उनकी पहली शादी खबर फरीद मनेका से हुई थी, जो इस्लामाबाद में सीनियर कस्टम ऑफिसर थे। बुशरा कुछ साल पहले अपने पति से अलग हो चुकी हैं। बुशरा मूल रूप से दक्षिणी पंजाब से हैं।

बुशरा के पहले पति असिस्टेंट कलेक्टर, डिप्टी कलेक्टर और एडिशनल कलेक्टर के पद पर अपनी सेवा दे चुके हैं। पिछले महीने पाकिस्तान के पीएम शाहिद खकान अब्बासी ने उन्हें प्रमोशन भी दिया था।

बुशरा के पांच बच्चे हैं। इनमें दो लड़के और तीन लड़कियां हैं। बुशरा के दोनों बेटे इब्राहिम और मुसा लाहौर कॉलेज से ग्रैजुएट हैं। फिलहाल दोनों विदेश में आगे की पढ़ाई कर रहे हैं। बुशरा की बड़ी बेटी मेहरू पंजाब के एमपीए मियान अट्टा मोहम्मद की बहू हैं।

इमरान खान से कैसे हुई मुलाकात?

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, बुशरा मनेका की इमरान खान से पहली मुलाकात 2015 में NA-154 सीट के लिए होने वाले उपचुनाव के दौरान हुई थी। तब इमरान खान चुनाव प्रचार कर रहे थे. ये मुलाकात धीरे-धीरे दोस्ती में बदल गई. दोनों काफी कम वक्त में एक दूसरे के करीब आ गए थे।

दिसंबर में किया था प्रपोज

बीते साल दिसंबर में इमरान खान ने बुशरा को शादी के लिए प्रपोज किया था। बुशरा ने तब उनसे कुछ वक्त मांगा था, क्योंकि वो अपने परिवार और बच्चों से बातचीत के बाद ही इस प्रपोजल पर कोई फैसला लेना चाहती थीं।

उम्मीद है आपको हमारी पोस्ट पसंद आई होगी। अगर आपको हमारी पोस्ट पसंद आई तो कमेंट करें और अपने दोस्तों से शेयर जरूर करें

LEAVE A RESPONSE

Your email address will not be published.