TimesSpeak.com

Welcome To The World Of News Articles

Health Life Style

इन घरेलु नुस्खों से हम अपने लिवर को हमेशा स्वस्थ रख सकते है

इन घरेलु नुस्खों से हम अपने लिवर को हमेशा स्वस्थ रख सकते है

आजकल भाग दौड़ भरी जिंदगी में हम अपने स्वास्थ्य का सही और नियमित रूप से ध्यान नहीं रख पाते हैं जिससे हमें काफी समस्याएं होने लगती है। आजकल हम अपने आसपास कई ऐसे लोगो को भी देखेगे जो की कई समस्याओं से जूझ रहे हैं। उनमे से एक है लिवर का ख़राब होना। उचित खान पान नहीं होने के कारण और अनुचित तरीके खाने की मात्रा लेने और कुछ अत्यंत खराब आदतों से हमारे लिवर को काफी नुकसान पहुच रहा है। लिवर हमारे शरीर का अत्यंत महत्वपूर्ण भाग है। जैसा की हम सभी जानते है की लिवर हमारे शरीर को कई तरीको से मदद करता है। जिससे शरीर का ठीक तरह से संचालन हो पाता है।

लिवर क्या है?

यकृत या जिगर या कलेजा (Liver) शरीर की सबसे बड़ी ग्रंथि है, जो पित्त (Bile) का निर्माण करती है। पित्त, यकृती वाहिनी उपतंत्र (Hepatic duct system) तथा पित्तवाहिनी (Bile duct) द्वारा ग्रहणी (Duodenum), तथा पित्ताशय (Gall bladder) में चला जाता है। पाचन क्षेत्र में अवशोषित आंत्ररस के उपापचय (metabolism) का यह मुख्य स्थान है।

लिवर दिखने में केसा होता है?

लिवर लालपन लिए भूरे रंग का बड़ा मृदु, सुचूर्ण एवं रक्त से भरा अंग है। मृदु होने से अन्य अंगों के दाब चिन्ह इस पर पड़ते हैं, फिर भी यह अपना आकार बनाए रखता है। यह श्वासोछवास के साथ हिलता रहता है। यकृत के दो खंड होते है, इनमें दक्षिण खंड बड़ा होता है। यकृत पेरिटोनियम (peritoneum) गुहा के बाहर रहता है। यकृत उदरगुहा में सबसे ऊपर डायाफ्राम (diaphragm) के ठीक नीचे, विशेष रूप से दाहिनी ओर रहते हुए, बाईं ओर चला जाता है। स्वाभाविक अवस्था में पर्शकाओं (ribs) के नीचे इसे स्पर्श नहीं किया जा सकता।

आकार

लिवर पाँच तलवाले नुकीला भाग बायीं ओर रहता है। अन्य चार तल ऊर्ध्व, अध:, पूर्व तथा पश्च कहलाते हैं। इसका अध: तल चारों ओर पतले किनारे से घिरा रहता है तथा उदर गुहा के अन्य अंग इस तल से संबद्ध रहते हैं।
लिवर की दक्षिण-बाम लंबाई 17.5 सेंमी, अध: ऊँचाई 16 सेंमी तथा पूर्व-पश्च चौड़ाई 15 सेंमी होती है। इसका भार शरीर के भार का 1/50 भाग के लगभग, प्राय: 1,500 ग्राम से 2,000 ग्राम तक होता हैं। शरीर के भार से इसके भार का अनुपात स्त्री पुरूषों में एक ही होता है, परंतु वय के अनुसार बदलता है। बालकों में इसका भार शरीर के भार का 1/20 भाग होता है।

लिवर क्या काम करता है?

1. ग्लूकोज से बनने वाले ग्लाइकोजन (शरीर क लिये इन्धन) को संग्रहित करना आवश्यकता होने पर, ग्लाइकोजन ग्लूकोस में परिवर्तित होकर रक्तधारा में प्रवाहित हो जाता है।

2. पचे हुए भोजन से वसाओं और प्रोटीनों को संसिधत करने में मदद करना।

3. रक्त का थक्का बनाने के लिये आवशक प्रोटीन को बनाना

4. विषहरण (डीटॉक्सीफिकेशन)

5. भ्रुनिय अवस्था में यह रक्त (खून) बनाने का काम भी करता है।

6. पित्त लवण और पित्त वर्णक को अलग अलग करता है।

7. रक्त से रक्तवर्णिता को अलग करता है।

8. गैलेक्टोकॉज को ग्लूकोज में परिवर्तित करता है।

9. कार्बोहाइड्रेट और प्रोटीन को बसा में परिवर्तित करता है।

10. एंटीडोट्स और एंटीजन का निर्माण करता है

लिवर के इन्ही कार्यों की वजह से हमारा शरीर स्वास्थ्य रूप से संचालित हो पाता है।

लिवर ख़राब कैसे होता है?

आजकल की भाग दौड़ भरी जिंदगी में हम सभी लोग काफी व्यस्त रहते हैं और अपनी व्यस्तता के चलते अपने शरीर पर ध्यान नहीं दे पाते जिस कारण से हमारा शरीर स्वस्थ नहीं रह पाता और कई सारी बीमारियां हमारे शरीर में घर बना लेती हैं।
लिवर ख़राब होने की समस्या किसी को भी परेशान कर सकती है इसीलिए हमें ये जानना बहुत आवश्यक है कि हमारी किन आदतों की वजह से हमारे लिवर को नुक्सान पहुचता है।

1. हम अक्सर अपने स्वाद पसंद अंदाज के कारन अपने खाने पे ध्यान नहीं देते और कई बार हम ज्यादा कोलेस्ट्रोल वाला खाना खाते हैं जो हमारे लिवर को नुक्सान पहुचाता है।

2. आजकल हमारी व्यस्तता के चलते हमारी दिनचर्या भी काफी अस्त व्यस्त रहती है। आपने कई लोगों से सुना होगा की यार मैं तो काफी लेट सोता हूँ इसीलिए लेट उठता हूँ। और हो सकता है कि देर से सोना और देर से उठना आपका भी व्यक्तिगत अनुभव हो। क्योंकि आजकल हर किसी पर काम का प्रेशर होता है जिससे हमारी दिनचर्या ऐसी हो रही है। हम आपको बता दे कि ये आदत आपके लिवर को नुकसान पंहुचा रही है।

3. जब हम कम प्रोटीन वाला भोजन करते है तो ये भोजन हमारे लिवर को नुक्सान पहुचा रहा होता है।

4. जब हम किसी अनजान शहर में जाते है तो अपने काम काज में व्यस्त होने के कारण हमें इतना भी टाइम नहीं मिलता है की हम खुद खाना बना सके तो इस स्थिति में हम टिफिन सेण्टर से डिब्बा बंद भोजन मंगाकर खाते हैं। जो हमारे लिवर को नुक्सान पहुचता है।

5. आजकल शराब पीना एक हाई-प्रोफाइल लाइफ जीने का संकेत बन गया है। कुछ लोग शौक से शराब पीते हैं तो कुछ लोग सिर्फ लोगो को दिखाने के लिए शराब पीते हैं तो कुछ लोग अपनी मित्र मंडली के साथ शराब पीने लगते हैं, अत्याधिक शराब पीना हमारे लिवर को पूर्णतः खराब कर देता है। जिससे हमारी मृत्यु भी हो सकती है।

क्यों जरुरी है स्वस्थ लिवर?

यह टॉक्सिन को फ़िल्टर करने से लेकर पित्त बनाने और शरीर के लिए जरूरी कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, मिनरल्स, तथा विटामिन्स तैयार करने सम्बंधित हमारे शरीर के सारे महत्वपूर्ण कार्य करता है। यही कारण है हमारी जीवनशैली से जुडी गलत आदतें हमारे लिवर को नुक्सान पहुंचा सकती हैं।

लिवर को स्वस्थ रखने के लिए क्या करें?

1. ज्यादा कॉलेस्ट्रोल वाला खाना छोड़ दें- हमारे लिवर के डिटॉक्सीफिकेशन के लिए हमें बसमुक्त या बिना चिकनाई वाला भोजन करना चाहिए। कोलेस्ट्रोल एक ऐसा बसा है जिसे हमारा लिवर प्रोसेस करता है। और उसके बाद इसे शरीर की ऊर्जा के स्रोत के रूप में काम लेता है। ऐसे में यह हमारे भोजन का अहम हिस्सा तो है लेकिन हमें अधिक कोलेस्ट्रॉल वाला भोजन करने से बचना चाहिए। अधिक कॉलेस्ट्रॉल वाले भोजन में हम लाल मास अधिक चिकनाई वाला भोजन शक्कर नमक आदि शामिल करते हैं। अधिक कोलेस्ट्रॉल वाला भोजन करने से लिवर के कई तरह के लोग हो सकते हैं।लिवर का मोटापन विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार दुनिया में सबसे ज्यादा पाई जाने वाली बीमारियों में से एक है। हमें अधिक कॉलेस्ट्रॉल वाले भोजन के बजाय रेसेदार सब्जी और अनाज का उपयोग करना चाहिए।

2. देर से सोना और उठना बंद ही कर दें अब- आजकल के युवाओं में देर से सोने और देर से उठने की प्रवृत्ति ज्यादा पाई जाती है। यह भी एक ऐसी गलत आदत है जिसे छोड़ना बहुत जरूरी है जल्दी सोना और जल्दी उठने से ना सिर्फ हम स्वास्थ्य समृद्धि और बुद्धिमान बनते हैं बल्कि हमारा शरीर कुछ इस तरह बना हुआ है कि लीवर रात में कुछ विशेष समयों पर डिटॉक्सीफिकेशन की प्रक्रिया करता है। यह प्रक्रिया हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत जरूरी होती है।

3. अधिक प्रोटीन वाला भोजन करें- संतुलित भोजन करना हमारे लिवर के लिए बहुत लाभदायक होता है। लिवर सिरोसिस की बीमारी से पीड़ितों को अधिक प्रोटीन वाला भोजन करना चाहिए ताकि लीवर खुद ही स्वयं की मरम्मत कर ले और भविष्य में कुछ नुकसान ना हो।

4. डिब्बा बंद भोजन खाने से बचें- हमारा लीवर खराब भोजन के प्रति बहुत संवेदनशील होता है। शुगर की अधिकता के कारण लीवर में यदि बसा बहुत ज्यादा जमा हो गया हो तो वह लीवर के टिश्यूज को क्षतिग्रस्त करता है। यह लीवर सिरोसिस का सबसे बड़ा कारण है। मोटापा और फैटी लीवर की बीमारी आपस में जुड़ी हुई है।

5. शराब पीना बिलकुल छोड़ दें- यह एक सामान्य बात है कि शराब का अत्यधिक सेवन लीवर को नुकसान पहुंचाता है। शराब और अल्कोहल की अधिकता वाले पेय पदार्थ के अधिक सेवन से एल्कोहलिक हेपेटाइटिस और एल्कोहलिक सिरोसिस जैसे रोग हो जाते हैं। फैटी लीवर की प्रॉब्लम को जिम्मेदारी से सतर्क रहते हुए दूर किया जा सकता है। इसके लिए शराब की लत से बचना अत्यधिक महत्वपूर्ण है।

हमारे शरीर में प्रवेश करने वाले टॉक्सिन हमारे लिवर को भेज दी जाती है। लीवर इन्हें प्रोसेस कर हमारे शरीर से बाहर निकाल देता है। हमारे अस्तित्व के लिए लीवर बहुत जरूरी है। लीवर के लिए नुकसानदायक आदतों को छोड़ दें और इसे ठीक रखने पर ज्यादा ध्यान दें। लिवर ना सिर्फ शरीर का सबसे बड़ा आंतरिक अंग है बल्कि यह महत्वपूर्ण नाजुक अंगों में से एक है।

1 COMMENTS

LEAVE A RESPONSE

Your email address will not be published.