TimesSpeak.com

Welcome To The World Of News Articles

Times speak
Gajab Facts India Latest News Politics Religious World

अबू धाबी के हिन्दु मंदिर की पूजा करेंगे स्वामी नारायण सम्प्रदाय के लोग जाने क्या स्वामी नारायण सम्प्रदाय

अबू धाबी के हिन्दु मंदिर की पूजा करेंगे स्वामी नारायण सम्प्रदाय के लोग जाने क्या स्वामी नारायण सम्प्रदाय

Times speak
Source

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अबू धाबी में रविवार को प्रथम हिंदू मंदिर की आधारशिला रखी। उन्‍होंने दुबई के ओपेरा हाउस में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए मंदिर का शिलान्यास किया। मोदी ने अबू धाबी में बनने वाले इस भव्य मंदिर के लिए 125 करोड़ भारतीयों की ओर से वली अहद शहजादा मोहम्मद बिन जायद अल नाहयान को धन्यवाद दिया। मंदिर की आधारशीला रखने के बाद पीएम मोदी ने भारतीय समुदाय के लोगों को ओपेरा हाऊस में संबोधित किया। जहां भारत माता की जय और मोदी-मोदी के नारे लगे।

यह मंदिर 55000 वर्ग मीटर भूमि पर बनेगा और यह 2020 में पूरा होगा। इसका निर्माण भारतीय शिल्पकार कर रहे हैं। और इस मंदिर की देखरेख स्वामी नारायण सम्प्रदाय द्वारा की जायेगी। मोदी ने ओपेरा हाऊस में भारतीय समुदाय के लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि भारत का खाड़ी देशों से गहरा संबंध है। खाड़ी देशों की विकास यात्रा में 30 लाख से ज्यादा भारतीय शामिल हैं।

मोदी जी ने क्या कहा

अपने संबोधन में मोदी ने कहा यहां के लोगों के प्रेम और स्नेह के लिए मैं शुक्रिया अदा करता हूं। उन्होंने कहा कि देश बदल रहा है, अब लोग यह नहीं कहते कि कैसे होगा, वो बस अब करने में यकीन रखते हैं।

संबोधन के दौरान पीएम मोदी के लिए लगातार तालियां गड़गड़ाती रहीं और मोदी-मोदी के नारे लगते रहे। उन्होंने कहा कि नोटबंदी को गरीब ने सही माना जबकि कुछ लोगों की नींद उड़ गई। मोदी ने कहा कि लोगों के लिए प्रिय नहीं, बल्कि फायदे होने वाले कदम उठाने जरूरी हैं।

स्वामी नरायण सम्प्रदाय

Times speak
Source

स्वामीनारायण सम्प्रदाय हिन्दू धर्म का एक भाग है। इसे स्वामीनारायण ने स्थापित किया था। गुरु रामानन्द स्वामी ने विशिष्टाद्वैयता की सीख को बढ़ाने के लिए स्वामीनारायण (तब सहजननद स्वामी) को उऊद्धव सम्प्रदाय का आचार्या बनाया। स्वामीनारायण सम्प्रदाय के प्रवर्तक स्वामी नारायण जी का जन्म उत्तर प्रदेशके गोण्डा जनपद के अन्तर्गत ‘छपिया’ नामक गाँव में हुआ था। आज भी यहाँ स्वामीनारायण मन्दिर है जहाँ मेला लगता है। वर्तमान में यह गाँव स्वामीनारायण छपिया के नाम से जाना जाता है।

स्वामीनारायण के पश्चात सम्प्रदाय को अपनाने वालों की संख्या में वृद्धि हुई और १८ लाख लोग इसके अपना चुके हैं। स्वामीनारायण सम्प्रदाय वेद के ऊपर स्थापित किया गया है। शिक्षापतरी और वचनमृत स्वामीनारायण सम्प्रदाय की मूल सीखें हैं। स्वामीनारायण ने छः मन्दिर बनाए थे। मृत्यु के पहले स्वामीनारायण ने स्वामीनारायण सम्प्रदाय के दो विभाग बनाए, पहला, नर-नारायण देव गाड़ी, जो अहमदावादसे चलई जाती हैं और दूसरा, लक्ष्मी नारायण देव गाड़ी, जो वाड़ताल से चलाई जाती हैं। इन दोनो विभाग के मुख्या, स्वामीनारायण ने आपने दो भंजो को एक पत्र, देश विभाग लेख के शक्ति से बनाया, जिसे बम्बई उच्च न्यायालय ने स्वामीनारायण की वसीयत माना हैं। इन दोनो की पीढ़ी इन दोनो विभागों के आचार्या के रूप में चलते हैं।

स्वामी नारायण

Times speak
Source

घनश्याम पाण्डे या स्वामीनारायण या सहजानन्द स्वामी का जन्म 2 अप्रैल 1781 को हुआ था। हिंदू धर्म के स्वामीनारायण संप्रदाय के संस्थापक थे। स्वामीनारायण संप्रदाय को मानने वाले उन्हे भगवान मानते हैं। भागवत पुराण और स्कंद पुराण स्वामीनारायण के अवतार का संकेत है। स्वामीनारायण की शिक्षापत्री स्वामईनारायण सम्प्रदाय का मूल ग्रन्थ है।

जीवन यात्रा

भगवान श्री स्वामिनारायण सर्व अवतारों के अवतारी माने जाते है। 3 अप्रैल 1781 (चैत्र शुक्ल 9, वि.संवत 1837) को श्रीराम की जन्मभूमि अयोध्या के पास स्थित ग्राम छपिया में उनका इस पृथ्वी पर अवतरण हुआ। रामनवमी होने से सम्पूर्ण क्षेत्र में पर्व का माहौल था। पिता श्री हरिप्रसाद व माता भक्तिदेवी ने उनका नाम घनश्याम रखा। बालक के हाथ में पद्म और पैर से बज्र, ऊर्ध्वरेखा तथा कमल का चिन्ह देखकर ज्योतिषियों ने कह दिया कि यह बालक लाखों लोगों के जीवन को सही दिशा देगा।

पांच वर्ष की अवस्था में बालक को अक्षरज्ञान दिया गया। आठ वर्ष का होने पर उसका जनेऊ संस्कार हुआ। छोटी अवस्था में ही उसने अनेक शास्त्रों का अध्ययन कर लिया। जब वह केवल 11 वर्ष का था, तो माता व पिताजी का देहांत हो गया। कुछ समय बाद अपने भाई से किसी बात पर विवाद होने पर उन्होंने घर छोड़ दिया और अगले सात साल तक पूरे देश की परिक्रमा की। अब लोग उन्हें नीलकंठवर्णी कहने लगे। इस दौरान उन्होंने गोपालयोगी से अष्टांग योग सीखा। वे उत्तर में हिमालय, दक्षिण में कांची, श्रीरंगपुर, रामेश्वरम् आदि तक गये। इसके बाद पंढरपुर व नासिक होते हुए वे गुजरात आ गये।

संन्यास जीवन

एक दिन नीलकंठवर्णी (घनश्याम पाण्डेय) मांगरोल के पास ‘लोज’ गांव में पहुंचे। वहां उनका परिचय स्वामी मुक्तानंद में हुआ, जो स्वामी रामानंद के शिष्य थे। नीलकंठवर्णी स्वामी रामानंद के दर्शन को उत्सुक थे। उधर रामांनद जी भी प्रायः भक्तों से कहते थे कि असली नट तो अब आएगा, मैं तो उसके आगमन से पूर्व डुगडुगी बजा रहा हूं। भेंट के बाद रामांनद जी ने उन्हें स्वामी मुक्तानंद के साथ ही रहने को कहा। नीलकंठवर्णी ने उनका आदेश शिरोधार्य किया।

उन दिनों स्वामी मुक्तानंद कथा करते थे। उसमें स्त्री तथा पुरुष दोनों ही आते थे। नीलकंठवर्णी ने देखा और अनेक श्रोताओं और साधुओं का ध्यान कथा की ओर न होकर महिलाओं की ओर होता है। अतः उन्होंने पुरुषों तथा स्त्रियों के लिए अलग कथा की व्यवस्था की तथा प्रयासपूर्वक महिला कथावाचकों को भी तैयार किया। उनका मत था कि संन्यासी को उसके लिए बनाये गये सभी नियमों का कठोरतापूर्वक पालन करना चाहिए।

कुछ समय बाद स्वामी रामानंद ने नीलकंठवर्णी को पीपलाणा गांव में दीक्षा देकर उनका नाम ‘सहजानंद’ रख दिया। एक साल बाद जेतपुर में उन्होंने सहजानंद को अपने सम्प्रदाय का आचार्य पद भी दे दिया। इसके कुछ समय बाद स्वामी रामानंद जी का शरीरांत हो गया। अब स्वामी सहजानंद ने गांव-गांव घूमकर सबको स्वामिनारायण मंत्र जपने को कहा। उन्होंने निर्धन सेवा को लक्ष्य बनाकर सब वर्गों को अपने साथ जोड़ा। इससे उनकी ख्याति सब ओर फैल गयी। वे अपने शिष्यों को पांच व्रत लेने को कहते थे। इनमें मांस, मदिरा, चोरी, व्यभिचार का त्याग तथा स्वधर्म के पालन की बात होती थी।

अंतिम दिनो में क्या हुआ था?

भगवान स्वामिनारायण जी ने जो नियम बनाये, वे स्वयं भी उनका कठोरता से पालन करते थे। उन्होंने यज्ञ में हिंसा, बलिप्रथा, सतीप्रथा, कन्या हत्या, भूत बाधा जैसी कुरीतियों को बंद कराया। उनका कार्यक्षेत्र मुख्यतः गुजरात रहा। प्राकृतिक आपदा आने पर वे बिना भेदभाव के सबकी सहायता करते थे। इस सेवाभाव को देखकर लोग उन्हें भगवान के अवतारी मानने लगे। भगवान स्वामिनारायण जी ने अनेक मंदिरों का निर्माण कराया, इनके निर्माण के समय वे स्वयं सबके साथ श्रमदान करते थे। भगवान स्वामिनारायण ने अपने कार्यकाल में अहमदाबाद (गुजरात), मूली, भूज, जेतलपुर, धोलका, वडताल, गढ़डा, धोलेरा तथा जुनागढ़ में भव्य शिखरबध्द मंदिरों का निर्माण किया। यह मंदिरों स्थापत्य कला का अद्भुत नमूना है।

धर्म के प्रति इसी प्रकार श्रद्धाभाव जगाते हुए भगवान स्वामिनारायण जी ने 1830 ई0 में देह छोड़ दी। आज उनके अनुयायी विश्व भर में फैले हैं। वे मंदिरों को सेवा व ज्ञान का केन्द्र बनाकर काम करते हैं।

उम्मीद है आपको हमारी पोस्ट पसंद आई होगी। अगर आपको हमारी पोस्ट पसंद आई तो कमेंट करें और अपने दोस्तों सेे जरूर शेयर करें।

LEAVE A RESPONSE

Your email address will not be published.